राजकुमारी मारियाना | Stories of Fairy Tales in Hindi

fairy tales in Hindi story-Stories of fairy tales in Hindi

Stories of Fairy Tales in Hindi

Stories of Fairy Tales in Hindi: एक समय की कहानी है जब एक साम्राज्य का राजा बहुत दयालु और नेक था। उसके राज्य पर पड़ोस के अत्याचारी राजा ने आक्रमण किया और उसके राज्य पर कब्जा कर लिया। 

इस युद्ध के परिणामस्वरूप, दयालु राजा गंभीर रूप से घायल हो गया और जख्म को बर्दाश्त न कर पाने की वजह से उसकी मृत्यु हो गई। राजा की पत्नी मौके का फायदा उठाकर राजकुमारी को लिए चुपके से वहाँ से चली गई। 

कई दिनों तक रानी, राजकुमारी को लिए कभी जंगल में, कभी पानी में तो कभी रेगिस्तान में लेकर भागती रही, और आखिर में उसे एक घर मिला। रानी ने दरवाजा खटखटाया, अंदर से एक बौना बाहर आया। 

रानी ने राजकुमारी को बौने को थमाया और कमजोरी एवं थकान से बेहोश हो गई। कुछ ही देर में वह मर गई। बौना बहुत रहम दिल था, उसने राजकुमारी का नाम मारियाना रखा क्योंकि राजकुमारी के गले में एक सोने का लॉकेट था जिस पर M लिखा हुआ था।

बौने ने मारियाना को अपनी बेटियों की तरह पाला। दिन और साल बीतते गए और मारियाना जवान हो गई। एक दिन, एक पीली चिड़िया उनके घर में उड़कर आई और उन्हें एक पत्र दिया। तो बौने ने पत्र पढ़कर मारियाना से कहा कि “पेरिस के सम्राट ने मुझे एक बैठक में आमंत्रित किया है, लेकिन इसमे तुम नहीं जा सकती, क्योंकि वहां नश्वर लोगों को जाने की अनुमति नहीं”।

“चिंता मत करो,” मारियाना ने कहा। “बस मुझे शंघाई के पानी की सुराही दे दें। 

मैं तब तक पूरी दुनिया भर घूम आऊँगी और पता लगाऊंगी कि मेरे गले में लटकन का मतलब क्या है।” दिल पर बोझ लेकर बौना राजी हो गया और उसे शंघाई पानी देने के बाद बौना चल गया।

अगली सुबह मारियाना भी अपनी सफर पर निकल पड़ी। वह अलग-अलग शहरों और कस्बों में गई और वहां बीमार लोगों से मिली और उन्हें शंघाई का पानी दिया जिससे वो सब सेहतमंद हो जाते। 

Fairy Tales in Hindi Story

एक दिन एक बूढ़ी औरत मारियाना से मिली और बोली कि मेहरबानी करके मेरी बेटी को बचा लो। फिर वह बूढ़ी औरत मारियाना को एक लेकर एक छोटी सी झोपड़ी में ले गई। जहां एक जवान लड़की बिस्तर पर लेटी मरने ही वाली थी जिसे मारियाना ने शंघाई का पानी पीने के लिए दिया, वह तुरंत ठीक हो गई। ठीक होते ही लड़की ने मारियाना का दिल से शुक्रिया अदा किया।

इतने में जब मरियाना ने चिड़िया के रोने की आवाज़ सुनी, तो वह पलटी और उसने देखा कि यह वही पीली चिड़िया थी जिसे उसके पिता बौने के लिए पत्र लेकर आई थी।

मारियाना ने देखा कि उसका पंख जखमी था। मारियाना ने उस पर भी वही जादुई शंघाई का पानी छिड़का और वह भी ठीक हो गई। फिर मारियाना ने बुढ़िया से अनुमति मांगी और वहाँ से चली गई। वो चिड़िया भी उसके साथ उसकी हमसफ़र बन गई। वो दोनों चलती रही। कुछ दिन बाद, वो एक ऐसे सल्तनत में पहुंचे जो बहुत सुंदर था।

मारियाना इस बात से अनजान थी कि ये राज्य उसके पिता की थी। इस बीच, वह अत्याचारी राजा की मृत्यु हो गई थी। और राज्य उसके भाई और पुत्र को मिल गई। अत्याचारी राजा का भाई अपने भतीजे से बहुत नफरत करता था। क्योंकि जल्द ही सल्तनत की बागडोर उसे मिलने वाली थी। इसलिए उसने हकीम से मिलकर एक जहर तैयार करवाया और अपने भतीजे को पिला दिया। भतीजा देखते ही देखते बीमारपड़ने लगा। जब उसकी बीमारी की खबर मारियाना को मिली तो वह उसके इलाज को पहुंची।

ज़ालिम राजा का भाई मरियाना के गले में हार देखकर समझ गया कि ये इस राज्य की राजकुमारी है, इसलिए उसने हकीम के साथ मिलकर एक योजना बनाई, जिससे उसके रास्ते के दोनों कांटों हट जाएंगे। हकीम ने शंघाई के सुराही को जहर के सुराही में बदल दिया। यह सब करते हुए पक्षी ने ऋषि को देख लिया। अगली सुबह, जब मारियाना, राजकुमार को शंघाई देने के लिए गई तो वो ठीक होने के बजाय और भी बीमार हो गया।

जिस पर मरीना को अत्याचारी राजा के भाई ने उसे मौत की सजा सुना दी। जब उसे सजा देने के लिए ले जाया जा रहा था। तब चिड़िया ने हकीम के कमरे से शंघाई की असली बोतल अपने पंजों में उठाए राजकुमार के पास पहुंची और उस पर शंघाई के उपचार का पानी का छिड़काव किया। पानी डालते ही, राजकुमार तंदुरुस्त हो गया और वह भाग कर मारियाना की मदद को पहुँचा।

जब अत्याचारी राजा ने अपने भतीजे को ठीक हालत में देखा तो उसने उन दोनों को बंदी बना लिया। जैसे ही वो दोनों को खाई में फेंकने लगे,तो वो बौना वहीं प्रकट हो गया। और अत्याचारी राजा, हकीम और उनके समर्थक को सजा के तौर पर जादू से गायब कर दिया। तब बौने ने मारियाना से कहा कि तुम इस आलीशान राज्य की राजकुमारी हो। फिर राजकुमारी ने राजकुमार से शादी कर ली और दोनों हंसी-खुशी रहने लगे।(1)

और कहानी पढ़िए:-

10 मोटिवेशनल कहानी इन हिंदी

Top 51 Moral Stories In Hindi In Short

सबसे बड़ी चीज (अकबर-बीरबल की कहानी)

मजेदार पंचतंत्र कहानियां(Stories of fairy tales in Hindi)

ऋषि का पहला प्यार

ईदगाह कहानी- मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand Ki Kahaniya)

टोबा टेक सिंह-मंटो की कहानी

अगर आप ऐसी ही अनोखी, शानदार और सूझ बूझ भरी कहानियाँ पढ़ने के शौकीन हैं तो इस ब्लॉग को जरूर SUBSCRIBE कर लीजिए और COMMENT और SHARE भी करना न भूलें।

शुक्रिया✌💖

You may also like...

2 Responses

  1. Bushra Reyaz says:

    👌👌👍

Leave a Reply

Your email address will not be published.