पानी की राजकुमारी | Blue Fairy and Tortoise Story in Hindi

पानी की राजकुमारी की कहानी | Rajkumari Ki Kahani

पानी की राजकुमारी: बहुत समय पहले की बात है जब हमारा पृथ्वी चारों तरफ पानी से घिरा हुआ था। जिसमें ना कोई जमीन था ना पेड़ पौधा या कोई इंसान या बच्ची भी मौजूद नहीं था उसमें केवल परियां और पानी के अंदर रहने वाला जीव जंतु रहते है।

जमीन के अंदर बहुत ही खूबसूरत जगह था। उसमें बहुत सारे मछलियां, कछुआ और अलग-अलग जीव-जंतु उस पानी के अंदर रहते हैं । पानी के नीचे एक अच्छी जगह थी और इसे सीपीयों से बनाया गया था । अपने माता-पिता के साथ एक सुंदर जल राजकुमारी रहती थी वह सभी जल प्राणियों से बहुत प्यार करती थी और वह उसे नीली परी कहते थे।

समुद्र की राजकुमारी

वह सभी जल चारों के अनुकूल थे नीली परी एक सौभाग्य और दयालु प्रकृति की थी। वह अपने आसपास के सभी लोगों से प्यार करते थे और जरूरत पड़ने पर हमेशा उनकी मदद करने के लिए तैयार रहती थी । यह एक जगह जादुई दौर था। वहां पानी में रहने वाले सभी जीव जंतु और पौधे एक दूसरे से बात करते थे। पानी के नीचे सभी छोटे पौधे और घास नीली परी के अनुकूल थे।

लेकिन नीली परी का सबसे अच्छा दोस्त एक बड़ा सा कछुआ था जो बहुत दयालु भी था । और उससे सबसे ज्यादा प्यार करता था वह अक्सर अपनी बड़ी फीट पा बैठाकर नीली परी को पानी की शेयर करने ले जाता था। जल्दी ही नीली परी को सारा पानी का धारा पता चल जाता है। नीली परी को पानी के अंदर सभी नुक्कड़ और कोने-कोने जगह का पता चल चुका था।

एक दिन नीली कछुआ परी से बोला एक नई जगह के लिए जाने का अनुरोध किया क्योंकि वह पहले से ही पानी में बाई और सभी का दौरा कर चुके थे। लेकिन कछुआ के लिए किसी भी नई आकाशगंगा में बाल ले जाना संभव नहीं था। इससे बहुत दुखी हो गए।

अगले दिन उस क्षेत्र के सभी जल जीव इकट्ठे हो गए। अपने योजना के अनुसार सभी कछुआ एक साथ आए और एक दूसरे का हाथ थामे रहे । उन्होंने पानी में एक बड़ा घेरा बनाया और एक साथ तैरे केवल उनका बड़ा पानी के ऊपर देखा जा सकता था। या एक द्वीप की तरह लग रहा था कि सारे मछलियां पानी के तेल से कीचड़ को कछुआ के ऊपर डालने लगे।

सुंदर राजकुमारी की कहानी (Fairy Tales In Hindi)

उसके बाद मछलिया पानी के अंदर से मिट्टी पर डालने के लिए कुछ गोले और कुछ शंक लाई। कुछ बालू का उपयोग भी बहुत कुछ ढकने के लिए किया गया था । बाद में अजीब पानी के पौधे पानी से बाहर आए और व्दीप के चारों ओर खड़े हो गए। जब उन पर सूरज चमका तो उन्होंने अपना रंग बदल दिया।

कुछ जल -जीव जो पानी से बाहर कुछ समय से देख सकते हैं। धीरे-धीरे द्वीप पर रहने के लिए आते हैं । जहां सुंदर भूमि के पूरा होने पर पानी से बाहर लंबे समय तक रहने की अपनी क्षमता बढ़ाने में सक्षम रहा। बड़ा कछुआ पानी से बाहर नीली परी पर गर्व करता है । नीली परी इतना सुंदर देख कर बहुत खुश हुआ उसने कभी नहीं सोचा था कि पानी से बाहर पानी के दूर भी एक दुनिया है ।

Princess Ki Kahani

उसने हरे पौधों और रेत का आनंद लिया, जो धूप से सोने की तरह चमक रही थी। उसने रेत से बने नाजुक गोले को छुआ। यह सच है कि सूर्य की किरणें कभी भी पानी के अंदर गहराई तक नहीं पहुंचती है । इसीलिए जब नीली परी सूरज की रोशनी से गर्म महसूस करती थी तो वह बहुत उत्साहित हो जाती थी। कुछ समय बाद उसके कपड़े तेज धूप में सूख गए उसके बल भी सूख गए थे। व्दीप पर सभी चमकीले रंग -बिरंगे चीजें दिखाई देने लगी।

ओ ! ये जगह कितना अच्छा है ! नीली परी खुशी से रोई । वह द्वीप पर लेट गई और जल्द ही सो गई। बडे़ कछुआ ने देखा कि आकाश में बादल मंडरा रहे हैं। चांद ने नीली परी को नीचे सोते देखा । खूबसूरत लड़की कौन है ? चांद ने बादलों से पूछा । जवाब नहीं दे सकता। मैंने इस द्वीप को “पहले कभी नहीं देखा “चांद ने कहा।

बड़े कछुए ने चांद को लड़की और द्वीप के बारे में सब कुछ बता दिया । चांद सब कुछ देख कर खुश लग रहा था । आप बहुत अच्छे हैं , ये कहकर। मैं भी हर समय पानी से ढकी धरती को देखकर भर गया था। अब देखने के लिए कुछ नया होगा। प्यारी नीली परी और अद्भुत नए द्वीप को देखकर वास्तव में बहुत खुश हूं।

प्रिंसेस की कहानी

बड़ा कछुआ और अन्जय जल जीव बहुत प्रसन्न हुए और उन्होंने चंद्रमा को हृदय से धन्यवाद दिया। जल्द ही नीली परी जग जाती है । वह चांद के तारे, हरे पेड़ , फूल -पौधे और सभी मधुर गायन पंछियों को देखकर आश्चर्यचकित हो जाती है । उसने भी सभी को धन्यवाद दिया । चांद ने नीली परी से कहा मेरे प्यारे तुम जब चाहो इस महल के दर्शन करने आ सकते हो । अब से यहां एक नई दुनिया बनेगी और मैं यहां हर पूर्णिमा की रात आऊंगा।

यह कहानी है, बहुत समय पहले की है जब पहली बार जमीन पर खेती की गई थी। तब से प्रत्येक पूर्णिमा की रात को समुद्र में ऊंची लहरें छलांग लगाती है। हो सकता है कि नीली परी चंद्रमा से मिलने के लिए अपने अद्भुत लहरें आने के लिए सवारी करें।

ये भी पढ़ें:

सितारा परी की कहानी

जादुई बिल्ली और राजकुमारी

राजकुमार मेंढक और जिद्दी राजकुमारी

राजकुमारी मारियाना | fairy tales in Hindi story

छोटे बच्चों की मजेदार कहानियां-Panchtantra Ki Kahaniyan

Top 91 Short Story In Hindi For Kids

Top 10 Moral Stories In Hindi

47+ अकबर बीरबल की कहानी

पाँच बातें-हरपाल सिंह और बूढ़े बाबा की कहानी

50+ मजेदार छोटे बच्चों की कहानियां

4 चोर और शेख चिल्ली की कहानी (Sheikh Chilli Ki Kahani)

नली का कमाल-तेनाली राम कहानी

सबसे बड़ी चीज (अकबर-बीरबल की कहानी)

11 बेस्ट शेर की कहानियां

आपको यह कहानी ‘पानी की राजकुमारी(नील परी)’  कैसी लगी? आप अपने COMMENTS के द्वारा हमें अवश्य बतायें। Fairy Tales in Hindi पसंद आने पर SUBSCRIBE और SHARE करें।

शुक्रिया

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.